चुनाव आयोग की लगतार चुप्पी से उठ रहे कई सवाल, फ़र्ज़ी वोटिंग ओर हिंसा की सैंकड़ों खबरों के बाद भी रिपोलिंग क्यों नही

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान से पहले पश्चिम बंगाल की सियासत गरमा गई है। मंगलवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो में पत्थरबाजी और झड़प का मामला देर शाम चुनाव आयोग पहुंच गया। बीजेपी ने आयोग से मांग की है कि तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों को कथिततौर पर भड़काने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को प्रचार से रोका जाए।

BJP

अपने एग्रेसिव प्रचार अभियान के तहत पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो आयोजित हुआ। शाह के केवल इतना रोड शो के दौरान हिंसा हो गई. रोड शो के दौरान टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. इसके बाद मारपीट और जमकर पत्थरबाजी हुई. अमित शाह के ट्रक को भी निशाना बनाए जाने की कोशिश की गई. कई जगहों पर आगजनी भी की गई है. कॉलेज स्ट्रीट के पास हिंसा भड़क उठी, जिसमें तीन बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया. घटना के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी घटनास्थल पर निरीक्षण करने पहुंचीं. वह विद्यासागर कॉलेज गईं, जहां ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़ दिया गया. शाह

टीएमसी कार्यकर्ता कलकत्ता विश्वविद्यालय के गेट पर काले झंडों के साथ जमा थे. जैसे ही रोड शो वहां से गुजरा, उन्होंने अमित शाह के खिलाफ नारे लगाए और काले झंडे दिखाए. आरोप है कि उन्होंने रोड शो पर ईंट व पत्थर फेंके।

BJP, Amit Shah's road show

वहीं, बीजेपी ने इसे टीएमसी की गुंडागर्दी बताया है. बीजेपी ने इस मामले को लेकर चुनाव आयोग से कार्रवाई की मांग की है. बीजेपी नेताओं ने इसके लिए चुनाव आयोग से मुलाकात भी की है. इस मामले को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि रोड शो में लोगों का बड़े पैमाने पर समर्थन मिल रहा था. इसीके चलते कुंठित टीएमसी कार्यकर्ताओं ने हमला किया. मैं बीजेपी कार्यकर्ताओं को बधाई देना चाहूंगा, जो उन्होंने बवाल के बाद भी रोड शो को सफल बना दिया

पश्चिम बंगाल बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बंगाल में ममता को अपनी हार दिखाई दे रही है. बीजेपी का कहना है कि हार के डर से टीएमसी हिंसा का सहारा ले रही हैं. बीजेपी ने कहा कि ममता हार से बचने की आखिरी कोशिश कर रही हैं. इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार को होने वाले रैली के कुछ घंटे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा नेताओं के बैनर व फ्लेक्स सड़क के किनारे हटाए जाने के बाद यहां विवाद पैदा हुआ था.

BJP road show

अमित शाह का मंगलवार दोपहर बाद मध्य कोलकाता के शहीद मीनार से उत्तरी कोलकाता के स्वामी विवेकानंद आवास तक रोड शो निर्धारित था. रोड शो से ठीक दो घंटे पहले अमित शाह, मोदी व उत्तर कोलकाता के भाजपा उम्मीदवार राहुल सिन्हा के बड़े संख्या में कटआउट व फ्लेक्स लेनिन सरानी मार्ग के बड़े भाग से हटा दिए गए थे.

उधर, राज्य में बीजेपी की बढ़ती पैठ और मिल रही कड़ी टक्कर से बौखलाई ममता ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने पर बीजेपी को घेरा है। ममता ने मामले की जानकारी ली। इसी के पास में शाह के रोड शो में झड़प हुई थी। CM ममता बनर्जी ने कहा कि बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।

हालांकि ममता ने अपनी पार्टी कार्यकर्ताओं और गुंडों द्वारा की गई मारपीट, हिंसा और बीजेपी पर हमले के बारे में कुछ नही बोला। पाठकों को मालूम ही होगा कि बंगाल के अब तक 6 चरण में हुए चुनाव में हर चरण में भारी हिंसा, गुंडागर्दी ओर तोड़फोड़ हुई है जिसके लिए बंगाल में साफ तौर पर टीएमसी के गुंडे जिम्मेदार है जिन्हें पुलिस की भी शह मिली हुई है।

BJP

उधर, दिल्ली में चुनाव आयोग के अधिकारियों से बीजेपी के वरिष्ठ अधिकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल देर शाम में मिला। बाद में मुख्तार अब्बास नकवी ने पत्रकारों को बताया, ‘हमने आयोग से मांग की है कि अराजक तत्वों और हिस्ट्रीशीटरों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए।’ उन्होंने EC से मांग की है कि केंद्रीय बल चुनाव क्षेत्रों में फ्लैग मार्च करें और मुख्यमंत्री को अपने समर्थकों को भड़काने के लिए प्रचार से प्रतिबंधित किया जाए। केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी मांग की है कि आयोग ममता बनर्जी के प्रचार पर बैन लगाया जाए।